एक और बड़ी खबर बीएसए को पता नहीं, प्रबंधक ने शुरू कर दी शिक्षक भर्ती

2879
views

समाज कल्याण से सहायता प्राप्त स्कूलों में मनमाने तरीक से नियुक्ति प्रक्रिया शुरू करने का मामला प्रकाश में आया है। बाल विद्यालय नयापुरा, कन्या पाठशाला रम्मन का पुरा और हरिजन कन्या पाठशाला सादियाबाद में शिक्षकों के क्रमश: 9, 8 और 3 पदों के लिए आवेदन मांगे गए हैं। तीनों स्कूल की प्रबंध समिति एक है। आश्चर्य की बात है कि बीएसए के अनुमोदन के बगैर शिक्षकों के 20 पदों पर भर्ती शुरू कर दी गई है जबकि नियमावली के अनुसार बीएसए के बगैर अनुमोदन मिले विज्ञापन जारी ही नहीं हो सकता।  

यही नहीं विज्ञापित पदों की संख्या भी आरटीई 2009 के नियमों के विपरीत है। आरटीई के अनुसार 30 बच्चों पर एक शिक्षक होना चाहिए। बाल विद्यालय नयापुरा में 169, कन्या पाठशाला रम्मन का पुरा में 135 और हरिजन कन्या पाठशाला सादियाबाद में 66 बच्चे हैं। इन स्कूलों में वर्तमान में क्रमश: 4, 3 व 2 शिक्षक कार्यरत हैं। एक पद प्रधानाध्यापक का मान लें तो भी नयापुरा व रम्मन का पुरा में तीन-तीन और सादियाबाद में दो शिक्षकों की ही नियुक्ति हो सकती है। जबकि प्रबंधन ने अनुमन्य पदों से कहीं अधिक पर भर्ती के लिए 8 सितंबर को विज्ञापन जारी किया है।

STUDY Material

पर्यावरण अध्यन के 1100 प्रश्नो की PDF Download करने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करे| CLICK HERE

बाल विकास के 1100 प्रश्नो की PDF Download करने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करे | CLICK HERE

English के 1100 प्रश्नो की PDF Download करने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करे | CLICK HERE

संस्कृत के 1100 प्रश्नो की PDF Download करने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करे |

Click Here

STUDY Material

सामान्य अध्ययन DAY -1 PDF डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |

Click Here

सामान्य अध्ययन DAY -2 PDF डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे

Click Here

सामान्य अध्ययन DAY -3 PDF डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे

Click Here

सामान्य अध्ययन DAY -3 PDF डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे

Click Here

संजय कुमार कुशवाहा (बीएसए) ने कहा, बाल विद्यालय नयापुरा, कन्या पाठशाला रम्मन का पुरा और हरिजन कन्या पाठशाला सादियाबाद में शिक्षक भर्ती के लिए मेरे स्तर से अनुमोदन नहीं दिया गया है। न ही यह भर्ती मेरे संज्ञान में है।
बीएसए नहीं दे रहे अनुमतिस्कूल प्रबंधकों का कहना है कि बीएसए अध्यापकों की नियुक्ति के लिए अनुमति नहीं दे रहे हैं। जिला समाज कल्याण अधिकारी प्रवीण कुमार सिंह ने भी पिछले साल मई में निदेशक समाज कल्याण को पत्र लिखकर बीएसए की शिकायत की थी कि दो साल से अनुमति नहीं दे रहे हैं।